ग्रामीण महिलाओं को डेयरी आजीविका से जोडना

धौलपुर जिले मे ग्रामीण क्षेत्र के लोगो का मुख्य धंधा खेती एवं पशुपालन है। इसलिये सहेली समिति किसानो की मुख्य आजीविका खेती बाडी एवं पशुपालन मे उनको जानकारी देकर प्रशिक्षण देकर सहयोग कर रही है। महिलाओं के परिवार को दूध की सही कीमत उनको मिल सके इसके लिये संस्था ने गॉव मे दुग्ध उत्पादन समितियों का निर्माण कर उनको सहेली बी.एम.सी. से जोडा गया है। यह महिलायें भैंस का दूध अब डेयरी मे देती है और सहेली बी.एम.सी. इस दूध को 25 या 26 रूपये लीटर की दर से लेती है । डेयरी इन्चार्ज को उनका सर्विस चार्ज भी सहेली समिति से दिया जाता है। इससे गॉव के एक व्यक्ति को रोजगार मिला तथा समूह की ग्रामीण महिलाओं को दूध की उचित दर उनको प्राप्त हुई। इससे पहले गॉव के दूधिया 14 या 15 रूपये प्रति लीटर की दर से यह दूध लेते थे जिससे इन महिलाओं को दूध की सही दर नही मिल पाती थी जो उनको मिलना चाहिये। महिलायें दूधिया से कर्जा लेती थी और उनको कम कीमत मे उनको दूध देती थी परन्तु अब ऐसा नही है वह समूह से पैसे लेकर और अपना रोजगार चला कर अपनी आय मे वृद्धि कर रही है। इससे उनकी आर्थिक स्थिती सुदृढ हुई है।

हमारे भागीदार