स्वयं सहायता समूह का गठन

सहेली समिति एवं राजीविका के बीच दिसम्बर 2015 मे पार्टनरषिप के तहत कार्य करने का अनुबन्ध हुंआ। सहेली समिति, धौलपुर के द्वारा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के द्वारा धौलपुर जिले के ब्लॉक धौलपुर, बाडी एवं बसेडी मे स्वयं सहायता समूहों का गठन किया गया। इस वित्तीय वर्ष 2015-16 मे 686 स्वंय सहायता समूहों का ओर गठन किया गया है। कुल 846 स्वयं सहायता समूह संचालित है। यह महिला समूह के सदस्य हर सप्ताह मीटिंग करते है और इस मीटिंग में वह अल्प बचत करते है। समूह की बैठक में सभी महिलायें आपस में सामाजिक एवं व्यक्तिगत मुद्दो पर चर्चा कर निर्णय करती है, एवं समूह की वर्तमान स्थिती एवं भविष्य में समूह की स्थिती सुधारने पर भी चर्चा एवं निर्णय करती है एवं समूह के कुछ मुद्दो के निर्णय ग्राम संगठन स्तर पर करते है। जिससे समूह से जुडी महिलायें सही तरह से अपने समूह का निर्वाह कर सके।


समूह का क्रियान्वन


स्वयं सहायता समूह का उद्देश्य


स्वयं सहायता समूह के प्रमुख कार्य

बचत करवाना

स्वयं सहायता समूह की महिलायें स्वेच्छा से अपनी छोटी-छोटी बचत 10 से 50 रू. तक साप्ताहिक कर रही है। बचत की राषि एक समूह की सभी महिलाओं की एक समान होती है। आगे

स्वयं सहायता समूह को बैंक से जोडना एवं लोन देना

गठित स्वयं सहायता समूहो में से 694 समूहों का सम्बन्धित बैंकें में खाते खोले जा चुके है जिसमें समूह की महिलायें अपनी बचत बैंक में जमा कराती है और जरूरत पडने पर बैंक से पैसा निकालती है। आगे

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को आजीविका से जोडना

समूह की महिलाओं को आजीविका से जोडनें के लिये उनके पास उपलब्ध साधनों जैसे कि पशुपालन को सुदृण बनाने मे संस्था ने एक योजना बना कर कार्य करना शुरू किया । आगे


क्लस्टर का गठन

सहेली समिति, धौलपुर मे 50 क्लस्टर का गठन किया जा चुका है। जिनमे से 50 क्लस्टर के बैंक मे खाते खोले जा चुके है। एक क्लस्टर मे 8 समूह से लेकर 18 समूह तक की भागीदारी क्लस्टर मे होती है । आगे


मुंशी प्रषिक्षण

समूह की महिलायें अपने ही गॉव से एक मुंषी का चयन करती है जो कि स्वयं सहायता समूह का लेखा जोखा रखने का कार्य करता है। इन मुंशीयों का सहेली समिति के द्वारा वर्ष मे प्रशिक्षण दिये जा चुके है। । आगे


हमारे भागीदार